Tuesday, September 28, 2010

बताईए मंगतू की क्या गलती है?

image

मंगतू टी. वी. का शौकीन है. वह टी.वी. की हर बात को सही मान लेता है. वह 'माँ कहती है कि कुछ नया करने से पहले कुछ मीठा खा लेना चाहिये' वाले एड के प्रभाव में था और उसे घर से बाहर निकलना पड़ा. बस स्टैण्ड पर एक खूबसूरत लड़की चाकलेट खा रही थी. उसे लगा कि विज्ञापन का आईडिया आज़मा लेना चाहिये. उसने लड़की से उसके चाकलेट का एक बाईट मांगा ही था कि उसकी शामत आ गयी. लड़की का ब्वायफ्रेण्ड वहीं खड़ा था, वह उसे मारने को दौड़ा. किसी तरह जान बचाकर आगे बढ़ा तो  एक पुलिस वाले ने लड़की छेड़ने के आरोप में उसे दो डंडे मार दिया.

उसने सारा वाकया सुनाकर पूछा बताईए 'मेरी क्या गलती है?'

अब मैं क्या बताऊँ आप ही बताईए मंगतू की क्या गलती है?

 

7 comments:

सुज्ञ said...

बस बिचारा नहिं जानता था,विज्ञापन जो भी कहते है सच्चाई नहिं होती।

माधव said...

nice

शरद कोकास said...

लेकिन वह नया क्या करने वाला था ? यही तो नही जो उसने किया ।

सतीश सक्सेना said...

बहुत गज़ब की धार है इस व्यंग्य में भाई जी !
आज लगभग हर घर में नए मंगतू पैदा हो रहे हैं, न्यूज़ पर अविश्वास करने का सवाल ही कहाँ पैदा होता है ??

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मंगतू को लडकी के आस पास देख लेना चाहिए था न ...:):)

Jyoti said...

विज्ञापन पर विश्वास नही करना चाहिए......

दिगम्बर नासवा said...

भाई कोई ग़लती नही .... ये टी वी वाले भी न .....

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी