Sunday, July 1, 2012

और दर्पण टूटने से बच गया … (लघुकथा)

image

वह दर्पण के सामने खड़ी हो गयी और बोली, “बता दर्पण ! मेरी ख़ूबसूरती के बारे में बता'”

दर्पण ने उसे निहारा और बोला, “आपसे भी खूबसूरत लोग हैं इस नगर में"

उसे गहन संताप हुआ और उसने क्रोधित होकर एक पत्थर उठा लिया और बोली, “बता दर्पण ! अब तूं मेरी ख़ूबसूरती के बारे में बता'”

दर्पण ने पत्थर देख लिया था, जोर से कहा, “आप बहुत खूबसूरत हैं" फिर धीरे से बोला “पर आपसे भी खूबसूरत लोग हैं इस नगर में"

वह प्रथम वाक्य सुनकर इतना विह्वल हुई की द्वितीय वाक्य को सुनी ही नही. और बेचारा दर्पण झूठ बोलने और टूटने से बच गया.

Monday, May 21, 2012

पीकर बेचारा किसी नाले में पड़ा होगा ….

image

शाम हो चुकी है भला कैसे खड़ा होगा

पीकर बेचारा किसी नाले में पड़ा होगा

.

उसकी मुस्कुराहट कर रही है चुगली

शादीशुदा नहीं शर्तियाँ वह 'छड़ा' होगा

.

आज फिर उसका चेहरा सूजा हुआ है

किसी ‘नाजनीन’ ने थप्पड़ जड़ा होगा

.

नाक कट गयी है, आँख कहीं और होगा

किसी बिजली के खम्भे से लड़ा होगा

.

‘तौहीन’ इसके लिए शान -ओ-शौकत है

इसके जेहन में शायद चिकना घड़ा होगा

Sunday, May 13, 2012

जो नंगा है , वही चंगा है .....

[image%255B2%255D.png]

(वैधानिक चेतावनी : यहाँ शारीरिक नंगई को कोई स्थान नहीं है)

नंगा होने का सुख नंगा ही जान पायेगा. वस्तुत: नंगई एक नैसर्गिक गुण है जो अर्जित भी की जा सकती है और विरासत में भी मिल सकती है. नंगई के लिए आवश्यक संसाधन है माँ-बहन की गालियाँ. यह भी साधना से अर्जित की जाती है. वैसे भी आजकल के सीरियलों और तथाकथित ‘रियलिटी शोज’ में यह बखूबी प्रयोग की जाती है और वहाँ से भी अर्जित की जा सकती है.

समाज के कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जिनमें यह अतिआवश्यक गुण की श्रेणी में आते हैं, उनमें से कुछ प्रमुख हैं : राजनीति, ठेकेदारी, भाईगिरी, उठाईगिरी आदि. प्रथम दो क्षेत्रों (राजनीति, ठेकेदारी) में यह थोड़े परिमार्जित रूप में परिलक्षित होती है पर अन्य दो क्षेत्रों (भाईगिरी, उठाईगिरी) में यह अपने नैसर्गिक रूप में ही कारगर है.

यहाँ बाथरूम या हरम में नंगे को नंगई के रूप में नहीं देख सकते. क्योंकि ऐसा करने से शायद ही कोई नंगई के इलज़ाम से बच पाये. यहाँ की चर्चा में केवल सार्वजनिक रूप से नंगे ही शामिल हैं. सार्वजनिक नंगई में लिप्त आमतौर पर वैयक्तिक नंगई से परे भी होते हैं.

नंगई को साध चुके समाज के हर क्षेत्र में अपने कार्य संपादन में इसका चतुराई से प्रयोग करते हैं. कई तो नंगई से अपने कार्य को संपन्न करवाने के उपरांत नंगई के खिलाफ प्रवचन देते दिख सकते हैं, जैसा आमतौर पर राजनीति में देखा जा सकता है.

नंगई का असली स्वरूप इस उदाहरण से स्पष्ट हो सकता है :

दृश्य : परीक्षास्थल (काल्पनिक)

आब्जरवर ने सामूहिक नकल पकड़ लिया और सेंटर के खिलाफ पत्र तैयार कर ही रहा है कि तभी एक लड़की (प्रायोजित) आब्जरवर के खिलाफ नक़ल चेकिंग के दौरान अनावश्यक रूप से स्पर्श, यानी छेडछाड का आरोप लगाने वाला पत्र लेकर आ गयी’

निष्कर्ष : आब्जरवर भी वही है, कोई शिकायत भी नहीं हुई, सभी सानन्द हैं और नक़ल जारी है.

मेरे एक मित्र का पुत्र (मात्र ४ वर्षीय) नैसर्गिक रूप से अर्जित किये हुए गुण का बखूबी प्रदर्शन किया. जब वे बाजार में थे तो उनका पुत्र एक खिलौने की जिद कर बैठा और मना करने पर वहीं नंगा हो गया. मजबूरन वह खिलौना उन्हें खरीदना ही पड़ा.

अस्तु, ये उदाहरण साबित करने को पर्याप्त हैं कि नंगई एक सात्विक ही नहीं कारगर गुण है.

कहना ही पडेगा “जो नंगा है,  वही चंगा है”

Friday, April 6, 2012

आजकल वे मुझसे नाराज़ हैं …

image

आजकल वे मुझसे नाराज़ हैं. यूँ तो मैं कभी नाराज़ नहीं होता और न किसी की नाराजगी का अंदाज़ा होता है. पर पत्नी के मामले में बात अलग है. वे जब भी मुझे उलाहनों से वंचित रखती हैं मैं समझ लेता हूँ कि नाराज़ हैं. नाराजगी का कोई कारण हो जरूरी नहीं है. गर्मी ज्यादा हो तो वे मुझपर नाराज़ हो सकती हैं. बेटा न पढ़े तो, और पढने बैठा रहे तो वे नाराज़ हो सकती हैं. विद्यालय से मैं जल्दी आ जाऊ तो; देर से आऊँ तो; भूख न लगने पर न खा पाऊँ तो; भूख लगने पर ज्यादा खा लूं तो वे नाराज़ हो सकती हैं.

एक बार मैंने उनके माथे पर लगे सूक्ष्म बिंदी पर ध्यान नहीं दिया तो माथे पर बल पड़ गया था. वैसे बिंदी पर ध्यान न देने को मैं अपनी गलती मानता हूँ. बहुत समझाया कि बिंदी छोटी होने के कारण निगाह में नहीं आ पाई वरना मैं तो बिंदियों पर बहुत ध्यान देता हूँ. बस फिर नया मसला खड़ा हो गया. ‘किस-किस की बिंदियों पर ध्यान देते हो.’ तौबा- तौबा बिना बिंदी के काम नहीं चल सकता क्या?

एक बार उनके ही आदेश पर टेबुल पर चढ़कर जाले साफ़ कर रहा था और अचानक पता नहीं कैसे टेबुल से फिसल कर गिर गया. टांग टूट गयी, प्लास्टर लगने के बाद पहली उलाहना यही थी कि जरूर तुम टेबल पर चढ़कर पड़ोसी के घर में झांक रहे होगे, तभी ध्यान बंटा होगा और गिर गए होगे.

सार्वभौमिक है यह समस्या. मैं स्वीकार कर रहा हूँ तो आप मुझ पर हँस रहे होंगे या सहानुभूति की टिप्पणियाँ तैयार कर रहे होंगे. पर गिरेबान में झाँक कर जरूर देख लें. कहीं यह स्थिति आपकी भी तो नहीं है. वैसे पत्नी की नाराजगी से मुझे कोई नाराजगी नहीं है. क्योंकि इस नाराजगी के बाद जो मनाने और फिर अंततोगत्वा उनके मान जाने पर जो सुख मिलता है वह अवर्णनीय है.

फिलहाल तो मैं अब उन्हें मनाने के उपाय सोचने में अपने चिंतन की समस्त क्षमता का उपयोग करूँगा और मना ही लूंगा, इसलिए अब विराम लेता हूँ.

धन्यवाद !

Thursday, November 10, 2011

कृपया अनुमान लगायें ये किससे बात कर रहे होंगे

राह/भीड़ मे खो जाने का खतरा

संग अपने मोबाईल रक्खो ..

चित्र 1

image

चित्र 2

image

Tuesday, June 21, 2011

उम्र के इस पड़ाव पर संग तुम्हारे ...

 हमारे आवास के पड़ोस मे रहने वाले इस बुजुर्ग दम्पत्ति की दिनचर्या यहाँ से शुरू होती है :

image     image

मोबाईल चित्र.

Monday, June 20, 2011

फादर्स डे पर ..

कल फादर्स डे पर बेटी ने पकौड़े बनाकर खिलाया ..

image

image

पूरे परिवार के लिये

image

खास मेरे लिये

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी