Friday, December 10, 2010

'गरीब रथ' इतना गरीब क्यों है?

image

विगत दिनों मैं अपने गृहनगर वाराणसी गया हुआ था. वहाँ से वापसी 'गरीब रथ' ट्रेन से हुई.  मुझे साईड मिडल बर्थ मिला. अब तक का सबसे दुरूह यात्रा साबित हुई. साईड मिडल बर्थ मायने खुद को डिब्बे में कैद करने जैसा था. शायद यह इकलौता ट्रेन है जिसमें साईड-मिडल बर्थ अब तक कायम है.  अस्तु, कहने को तो यह  वातानुकूलित ट्रेन है पर इसमें अन्य ट्रेनों के वातानुकूलित बोगी में मिलने वाली सुविधाएँ (!) यहाँ नदारद है. अन्य ट्रेनों में जहाँ बिछाने को बिस्तर और ओढने को कम्बल आदि सभी को उपलब्ध होता है, इस ट्रेन में नहीं है. बिस्तर अलग से किराया देने पर मिलता है. किराया देकर भी यह बिस्तर पा लेना प्लासी युद्ध जीतने जैसा ही दुरूह कार्य है, क्योकि यह भी सीमित मात्रा में उपलब्ध है. कुछ दृश्य मैनें इस जद्दोजहद का मोबाईल कैमरे से लिया है :

image

image

आखिर ऐसा क्यों ? 

11 comments:

पी.सी.गोदियाल said...

Laalooo se agar Ameer Rath kee Ummeed rakhoge to Galtee kiskee hai ?

अविनाश वाचस्पति said...

गरी 'बी' की पूरी कहानी
पढ़ोगे तो अमी 'री' को
याद आएगी नानी
नानी की कहानी में
नहीं होती थीं रेलें
अविनाश मूर्ख है

इसलिए आप कुछ भी कह लें
आओ बंधु, गोरी के गांव चलें

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

अब रथ है तो क्या हुआ ...है तो गरीब ही बेचारा ...

अरुण चन्द्र रॉय said...

आधे दाम में ए सी का सफ़र ऐसा ही होगा.. यह आर्थिक गणना की बात है..

AMAN said...

टिकट मूल्य कम दिखाने की कवायद है

संगीता पुरी said...

गरीबों की जो नियति है .. गरीब रथ इससे कैसे बचा रह सकता है ??

anshumala said...

कुछ महीनो पहले हमने भी यही गलती कर ली थी दिल्ली से वाराणसी जाते समय समस्या थी की दूसरी ट्रेन में टिकट नहीं मिला ए सी ट्रेन के नाम पर कलंक है | बिस्तर के लिए मार मारी तो आपने देखी ही मै भी नहीं ले सकी पर लेना जरुरी था क्योकि मेरे साथ मेरी तीन साल की बेटी थी | सबके जाने के बाद झगडा करके दो चद्दरे ली जो वो दे नहीं रहा था | इसे कहते है अंग्रेजी में बेफकुफ़ बनाना |

कविता रावत said...

kyonki gareebon ke saath majak karna hamari sarkaron ka shagal hai..... gareeb janta ko sunhare khwabon ka manjar dikhna jo hai...

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

आदरणीय वर्मा जी,
आपका अनुभव एक आम आदमी का अनुभव है !
कई कई बार तो लगता है कि ये सारी सुविधाएं हमारे लिए बनी ही नहीं हैं !
धन्यवाद !
-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

आर्जव said...

इतनी रशा कसी में भी आपने कैमरा चला ही दिया !
यह बहुत पराक्रम का काम था !

शरद कोकास said...

साइड मिडिल बर्थ एक राष्ट्रेय मूर्खता है

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी