Sunday, November 21, 2010

अपना एक स्टाईल रक्खो

अपना एक स्टाईल रक्खो

अधरों पर स्माईल रक्खो

.

दिखना हो जो धीर-गंभीर

पहलू में एक फाईल रक्खो

.

ये दुनिया जीने नहीं देगी

नज़रों मे मिसाईल रक्खो

.

बिखर रहे हो क्यूँ आखिर

खुद को कम्पाईल रक्खो

.

खतरा है खो जाने का तो

संग अपने मोबाईल रक्खो

14 comments:

AMAN said...

bahut sundar ..

Vivek Rastogi said...

वाह अंग्रेजी शब्दों का बेहतरीन उपयोग किया है.. मिसाईल

Razia said...

बहुत खूब ..

Sunil Kumar said...

fusion bhasha men likhi yeah gajal hansane ke sath achhi bhi lagi

Majaal said...

ऐसे ही सोचिये मजेदार,
सोच को यूँही फर्टाईल रखो ...

अरुण चन्द्र रॉय said...

अंग्रेजी शब्दों का बेहतरीन उपयोग....बहुत खूब ..

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत बढ़िया स्टाइल

शरद कोकास said...

इन अंग्रेजी काफियों का खूबसूरत प्रयोग

एस.एम.मासूम said...

wah bhai maza aa geya

उस्ताद जी said...

6/10

आनंद दायक और असरदार भी.
अंग्रेजी शब्दों का बहुत सटीक प्रयोग किया है.
'मिसाईल' और 'मोबाईल' का प्रयोग अर्थपूर्ण तो है ही साथ ही मुस्कान भी ला देता है.

Vandana ! ! ! said...

वाह इस बार आपका अंदाजे बयां बहुत नया लगा.

Udan Tashtari said...

बेहतरीन प्रयोग है जी.

क्षितिजा .... said...

कुछ हट के :) अच्छी fusion है ...

Poonam said...

i like the way you'hv woven words in rhyme.. :)so simply
sabko pasand ane wali kavita hai ye.

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी