Saturday, March 13, 2010

यह तिलिस्म कब टूटेगा ????

कहीं जाते-आते हम यह दृश्य अक्सर देखते हैं. कभी-कभी हम इसका हिस्सा बनते हैं और इन बहुरूपियों के गिरफ्त में आ जाते है. यह तिलिस्म ही तो है जो सब कुछ जानते-समझते हम इनके शिकार बन जाते है. आखिर यह तिलिस्म कब टूटेगा ????

Image0229

नहीं किसी का नीड़

क्यो है इतनी भीड़

 

Image0227

लोगों की बेबसी भुनाना है

मकसद केवल कमाना है

Image0226

यूँ ही नहीं गुर्गों को पाला है

तिलिस्म अब चलने वाला है

Image0228

बड़े जतन से चारा डाला है

देखो ये मेरी कार्यशाला है.

चित्र मोबाईल कैमरे से लिया गया है.

6 comments:

शरद कोकास said...

इस मजमे का रहस्य भी तो बताइये ?

Mithilesh dubey said...

लाजवाब लगा पढ़ना

दीपक 'मशाल' said...

Andhvishwas ko chapat lagati rachna pasand aayi Verma sir..

Udan Tashtari said...

ये क्या चल रहा है?

निर्मला कपिला said...

शायद धर्म के नाम पर लोगों को भडकाने वाले गरीब लोगों से इस रचना का भाव है। शुभकामनायें

ज्योति सिंह said...

आखिर यह तिलिस्म कब टूटेगा ????
नहीं किसी का नीड़ क्यो है इतनी भीड़
लोगों की बेबसी भुनाना है
मकसद केवल कमाना है
यूँ ही नहीं गुर्गों को पाला है
तिलिस्म अब चलने वाला है
बड़े जतन से चारा डाला है
देखो ये मेरी कार्यशाला है.
bahut khoob likha hai .

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी