Saturday, November 13, 2010

ब्लागर विमर्श @ अविनाश वाचस्पति ने कहा ....

आज दिनांक 23 नवम्बर 2010 को कनाट प्लेस में ब्लागर विमर्श के दौरान श्रीमान अविनाश जी ने जो कुछ कहा आप भी सुने :

4 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

तो क्‍या यह मैंने ही कहा है, बतलायें कि क्‍या यह मेरी ही आवाज है। रेल की तरह तेज चलती हुई। जिस तरह से रेल की तरह आवाज तेज चल रही है, इसी प्रकार की गति सार्थक हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग में भी आनी चाहिए। वर्मा जी का आभार शब्‍दों को गिरफ्तार करने के लिए।

mahendra verma said...

हर इंसान की भलाई हो...संगठन में ही शक्ति है...बढ़िया संदेश।

निर्मला कपिला said...

बहुत बढिया। धन्यवाद।

GirishMukul said...

Achchha sandesh

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी