Thursday, June 3, 2010

जूते ही जूते, हर नाप के हर साईज के, हर डिजाईन के ... आईए तो एक बार ... देख तो लें

 

image

 

image

 

image

 

image

 

image

 

image

20 comments:

ललित शर्मा said...

वर्मा जी
आप भी एक से एक युनि्क चीज ढुंढ कर लाते हैं।
जूते ही जूते-ये कील वाले जूते कैसे पहनते होगें? या सिर्फ़ चित्र के लिए ही हैं।

राम राम

ajit gupta said...

फैशन जो ना कराए कम है,कील वाले क्‍या केवल कील ही ठोक लें पैरों में।

राजकुमार सोनी said...

कुछ लोगों की वाकई इनकी सख्त आवश्यकता है। आपने तो पलक वाली सैंडिल भी दे रखी है।

Shekhar Kumawat said...

are wow


shandar jute

khatrnak jute

or fashion wale jute

saheb ye jute hi hute he

विनोद कुमार पांडेय said...

चाचा जी ये पहनने वाले हैं या दिखाने वाले..कैसे कैसे जूते..बढ़िया चीज़ ढूढ़ कर लाए है प्रस्तुति अच्छी लगी..धन्यवाद

Udan Tashtari said...

वाह! क्या जूते हैं..(यह चल जायेगा क्या??) हा हा!!

Razia said...

ऊपर से चौथे नम्बर वाली अच्छी है, कहाँ मिलेगी. हर सूट, हर साड़ी के साथ मैच करेगी.
बहुत सुन्दर

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

जूते तो बहुत अच्छे हैं!
चुराने का मन कर रहा हह!

पी.सी.गोदियाल said...

सुबह-सुबह दर्शन कर लिए दिन अच्छा बीतेगा :)

सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट) http://sureshcartoonist.blogspot.com/ said...

वाह! एक से बढ़कर एक ! किल वाले भूलकर भी घरवाली को मत खरीद दीजियेगा.. हा हा हा !

honesty project democracy said...

वर्मा जी हमारी मदद कीजिये और बताइए इन में से भ्रष्ट नेताओं के गले में कौन सा जूता फिट बैठेगा ,क्योकि अब जनता उनके गले में हार नहीं जूते ही पहनाएगी ?

sangeeta swarup said...

सुबह सुबह ही इतने जूते....: ) :)

इन सबको देख कर सोच रही हूँ कि क्या ये पहने भी जाते होंगे?

दिलीप said...

waah ji waah sir aap isme se kaun sa le rahe hain...:D

राजेन्द्र मीणा said...

वर्मा जी ....सर गोल्डेन कलेक्शन है ,,,रोज़ कुछ ना कुछ जोरदार और अलग ही लाते हो ,,,धन्यवाद

आचार्य जी said...

आईये जाने .... प्रतिभाएं ही ईश्वर हैं !

आचार्य जी

महफूज़ अली said...

तीसरे नंबर का जूता बहुत अच्छा लगा .........

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

तीसरा वाला ही ठीक है पहनने के लिये

डा० अमर कुमार said...


इन दिनों ब्लॉगजगत में जूतों की बहुत आवश्यकता है ।
सामयिक पोस्ट !

महफूज़ अली said...

बताइए ....ऐसे ऐसे लोग बैठे हैं.... कि इस पर भी नापसंद टांग कर चले गए.... जलनखोरों के लिए आपने आज सही पोस्ट लगायी है.... तीसरे नंबर वाला ही सही रहेगा....

महफूज़ अली said...

इन दिनों ब्लॉगजगत में जूतों की बहुत आवश्यकता है ।
सामयिक पोस्ट !

विश्व रेडक्रास दिवस

विश्व रेडक्रास दिवस
विश्व रेडक्रास दिवस पर कविता पाठ 7 मई 2010

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ

हिन्दी दिवस : काव्य पाठ
हिन्दी दिवस 2009

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

राजस्थान पत्रिका में 'यूरेका'

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

ब्लागोदय


CG Blog

एग्रीगेटर्स

आपका पता

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लागर परिवार

Blog parivaar

लालित्य

ग्लोबल भोजपुरी